Saturday, August 15, 2015

मैं डरती नहीं हूँ




मैं डरती  नहीं हूँ  श्वानों से
मालूम है भौकेंगे
काटेंगे
और मैं हट जाउंगी पीछे

मैं डरती  नहीं हूँ सर्पों से
मालूम हैं फूफकारेंगे
डसेंगे
और मैं बदल लूंगी रास्ते अपने



मैं डरती  नहीं हूँ  हैवानों से
मालूम है झपटेंगे 
करेंगे वार
और मैं भी खींच लूंगी
अस्त्र  अपने

मैं तो डरती  हूँ बस
इंसानो से
मालूम ही नहीं भौकेंगे
या काटेंगे

फूफकारेंगे
या  डसेंगे
झपटेंगे
या करेंगे  वार  

और मैं नहीं हट पाऊँगी
पीछे
नहीं बदल पाउंगी रास्ते
अपने
नहीं करा पाउंगी पलटवार
अस्त्र से
हाँ मैं डरती हूँ इंसानों से ।




No comments:

Post a Comment